22 फरवरी 2021 सोमवार

हज़ारों लाखों सालों का इतिहास रखने वाले सोने पर मात्र 12 साल पुराने बिटकॉइन ने कीमत के हिसाब से विजय पा ली है।एक किलो सोने की कीमत 57,420 डॉलर है और वहीं रविवार को एक बिटकॉइन की कीमत 58, 352 डॉलर पर पहुंच गई।यह पहली बार है जब बिटकॉइन इस कीमत पर पंहुचा है और पहली बार यह सोने की कीमत से आगे निकल गया है।बिटकॉइन पिछले चार हफ्तों से लगातार ऊपर जा रहा है।अगर हम एक महीने के चार्ट को देखें तब भी बिटकॉइन पिछले पांच महीने से लगातार ऊपर जा रहा है।बिटकॉइन की कीमत में सबसे बड़ी छलांग फरवरी के महीने में ही लगी है।बिटकॉइन ने ट्रेड पंडितो के लगभग हर दावे को फेल कर दिया है।

बिटकॉइन की कीमत में इस बार जो बढ़त दिखी है यह बहुत मज़बूत है।अगर हम 2017 की बात करें तो बिटकॉइन अपनी उच्चतम कीमत पर ज्यादा देर तक नहीं रहा था और जल्द ही इसमें गिरावट आ गई थी।इस बार बिटकॉइन में पिछले दो महीनों में जो वृद्धि हुई है उसके कुछ खास कारण है।किसी भी वास्तु की कीमत ऊपर जाने के पीछे कारण होता है उसमे किया गया निवेश।बिटकॉइन में पहले ऐसे लोगों का निवेश लगता था जो कम कीमत पर बिटकॉइन को ले कर,कीमत ऊपर जाने पर बेच देते थे।यह लोग बिटकॉइन की कीमत से खेलते थे और जब भी नया निवेश बिटकॉइन की उच्च कीमत पर आता था तब यह लोग अपना निवेश निकाल लेते थे।

अब बिटकॉइन में जो निवेश आया है यह ऐसे लोगों का है जो व्यापार जगत में एक बड़ा नाम रखते हैं और यह बिटकॉइन में निवेश निकालने के इरादे से नहीं आए हैं।अगर हम इन निवेशकों की बात करें तो ग्रेस्केल,माइक्रोस्ट्रेट्जी और हाल ही में टेस्ला है।इन सभी ने बिटकॉइन में जो निवेश किया है,वह अल्प समय के लिए नहीं किया है और न ही इन्होंने अपने व्यापार के निवेश को निकाल कर यहाँ लगाया है।इन सभी ने जो निवेश बिटकॉइन में किया है,वह इनका अतिरिक्त फण्ड है,यानि वह फण्ड जो इनके पास अलग से रखा था।इस निवेश की इनको अपने व्यापार में फ़िलहाल जरुरत नहीं थी।कम्पनियां अक्सर अपने अतिरिक्त फण्ड को कहीं निवेश करती हैं ताकि यह निवेश सुरक्षित रहने के साथ ही बढ़ता भी जाए।इस बार इन कम्पनियों को निवेश के लिए सबसे सही जगह लगी बिटकॉइन।

अगर हम माइक्रोस्ट्रेटर्जी के निवेश की बात करें तो इन्होंने समय समय पर बिटकॉइन में निवेश किया है।एक रिपोर्ट के अनुसार इस कम्पनी ने कुल 88000 बिटकॉइन ख़रीदा है और इन्हें प्रति बिटकॉइन लगभग 15000 डॉलर के हिसाब से मिला है।अगर हम इनके निवेश के मुनाफे की बात करें तो आज बिटकॉइन 55000 डॉलर के करीब भी मान लें तो इन्हें प्रति बिटकॉइन 40000 डॉलर यानि लगभग 30 लाख रुपयों का प्रति बिटकॉइन पर मुनाफा हुआ है।टेस्ला ने भी डेढ़ बिलियन डॉलर बिटकॉइन में निवेश किया है और यह निवेश लगभग 40 हज़ार डॉलर प्रति बिटकॉइन के हिसाब से है।माइक्रोस्ट्रेटर्जी के संस्थापक के पास भी निजी निवेश के तौर पर बिटकॉइन है।यह सभी लोग बिटकॉइन को लंबे समय तक अपने पास रखने वाले हैं और ऐसे में उम्मीद है की बिटकॉइन की कीमत और ज्यादा ऊपर जा सकती है।

इन कंपनियों के मुनाफे को देखते हुए कुछ और कम्पनियां भी बिटकॉइन में निवेश का इरादा रखती हैं।आज बिटकॉइन में निवेश सोने से ज्यादा बेहतर मन जा रहा है।बिटकॉइन की कीमत ऊपर जाने के पीछे एक कारण यह भी है की यह बहुत ही सीमित है।दो करोड़ दस लाख बिटकॉइन में से करीब 90% बाजार में आ चूका है।हाल में कनाडा सरकार ने बिटकॉइन के ETF एक्सचेंज ट्रेडिड फण्ड को मंजूरी दी है।दुनिया के कई देश बिटकॉइन को मुद्रा के सुरक्षित विकल्प के तौर पर देख रहे हैं।ऐसे में बिटकॉइन की कीमत और कौन से कीर्तिमान बनाती है यह तो समय पर ही पता चलेगा।

 

#bitcoin #wazirxwarriors #gold